संदेश इंडिया में आपका स्वागत है आप देख रहे है संदेश इंडिया 24x7 न्यूज़ चैनल.... आप संदेश इंडिया को www.sandeshindia.com पर लाइव देख सकते है । आप फेसबुक , यूट्यूब , ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते है । लाइव , डीलाइव , रिकॉर्डिंग , विज्ञापन , कथा - भगवत , व अन्य प्रोग्राम के लिये संपर्क करें - 9456800620 .... संदेश इंडिया को आवश्यकता है संवाददाता , कैमरामैन , मार्केटिंग मैनेजर की । आप हमें ईमेल करें - sandeshindiatv@gmail.com पर ....

मुश्किल में AAP, ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामले में EC ने खारिज की दलीलें, जारी रहेगी सुनवाई

चुनाव आयोग से आम आदमी पार्टी को जोरदार झटका लगा है. ऑफिस ऑफ प्रॉफिट मामले में जारी चुनाव आयोग ने अंतरिम आदेश में आम आदमी पार्टी की दलीलें खारिज कर दी हैं. दिल्ली हाई कोर्ट पहले ही विधायकों की विवादित पद पर नियुक्ति को अवैध ठहरा चुका है.

चुनाव आयोग लाभ के पद के मामले में सुनवाई कर रहा है. आम आदमी पार्टी ने अपील की थी कि जब दिल्ली हाई कोर्ट ने नियुक्तियां ही रद्द कर दी तो अब आयोग को सुनवाई करने का ना कोई औचित्य है और न ही जरूरत. आयोग ने इस दलील और अपील को दरकिनार कर दिया है. अब राष्ट्रपति को भेजे जाने वाली राय के लिए सुनवाई होगी. सुनवाई के बाद आयोग राष्ट्रपति को अपना मत भेजेगा कि इन विधायकों की नियुक्ति की वैधता पर उठे सवालों के जवाब क्या हैं. साथ ही इनकी सदस्यता का क्या हो.

चुनाव आयोग में आम आदमी पार्टी के 27 विधायकों के खिलाफ ऑफिस ऑफ प्रॉफिट के तहत शिकायत की गई थी. आयोग में शिकायत की गई थी कि अपने इलाके के अलग-अलग सरकारी अस्पतालों में 27 विधायक रोगी कल्याण समिति के अध्यक्ष बनाए गए है, जबकि केंद्र सरकार की 2015 की गाइडलाइंस के हिसाब से सिर्फ स्वास्थ्य मंत्री, क्षेत्रीय सांसद, जिला पंचायत अध्यक्ष या फिर जिलाधिकारी ही रोगी कल्याण समिति का अध्यक्ष बन सकते हैं.

क्षेत्रीय विधायक केवल इस समिति का सदस्य ही बन सकता है या मनोनीत किया जा सकता है. सभी 27 विधायकों को हर अस्पताल में ऑफिस की जगह दी गई है. कई अधिकारी इस पर अपना विरोध भी जता चुके हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *