संदेश इंडिया में आपका स्वागत है आप देख रहे है संदेश इंडिया 24x7 न्यूज़ चैनल.... आप संदेश इंडिया को www.sandeshindia.com पर लाइव देख सकते है । आप फेसबुक , यूट्यूब , ट्विटर पर फॉलो भी कर सकते है । लाइव , डीलाइव , रिकॉर्डिंग , विज्ञापन , कथा - भगवत , व अन्य प्रोग्राम के लिये संपर्क करें - 9456800620 .... संदेश इंडिया को आवश्यकता है संवाददाता , कैमरामैन , मार्केटिंग मैनेजर की । आप हमें ईमेल करें - sandeshindiatv@gmail.com पर ....

अमेरिका को तबाह करने के लिए रूस ने बना लिया है ये खतरनाक प्लान

वॉशिंगटन। रूस अमेरिकी तट की जमीन के नीचे परमाणु हथियार बिछा रहा है। यह दावा किया है रूस की सेना के एक पूर्व कर्नल व रक्षा विशेषज्ञ ने, जिन्होंने एक रूसी अखबार प्रावदा को दिए गए इंटरव्यू में खुलासा किया है। दावा करने वाले विशेषज्ञ का नाम विक्टर बरानेत्ज है और उनके इस इंटरव्यू का अनुवाद मिडिल ईस्ट मीडिया रिसर्च इंस्टीट्यूट (एमईएमआरआई) ने किया है।

रिपोर्ट के अनुसार, विक्टर ने बताया है कि जंग की स्थिति में इन परमाणु बमों में विस्फोट कर सुनामी लाई जा सकती है जिससे अमेरिका के तटीय इलाकों में भारी नुकसान होगा। विक्टर ने यह भी माना है कि रूस रक्षा क्षेत्र में अमेरिका से ज्यादा खर्च नहीं कर सकता इसलिए सेना का विस्तार बढ़ाने के लिए उसपर दबाव डालता है।

विक्टर ने दावा किया कि इनके अलावा रूस के पास अमेरिका को मात देने के लिए परमाणु मिसाइल हैं जिनमें हवा में विस्फोट किया जा सकता है और इससे होने वाले नुकसान का अंदाजा लगाना नामुमकिन है।

उन्होंने कहा कि रूस अमेरिका को ऐसा ‘जवाब’ देने की तैयारी कर रहा है जिसकी वजह से हमले की स्थिति में दोनों देश बर्बाद हो सकते हैं। उन्होंने बताया, ‘हमारा यह जवाब परमाणु बम है जो उसकी (अमेरिका) कार्यप्रणाली को इस तरह प्रभावित करेंगे कि कोई कंप्यूटर उसकी गणना नहीं कर सकता।’

विक्तोर ने उदाहरण देते हुए बताया कि मान लीजिए अमेरिका अपने टैंक, विमान और सेना की बटैलियन को रूस की सीमा पर उतार रहा है और हम अमेरिका की तटरेखा पर ‘गुप्त’ परमाणु मिसाइल गाड़ रहे हैं। वे जमीन के नीचे तब तक नहीं फटेंगे, जब तक उन्हें कमांड नहीं दी जाती।

इंटरव्यू में इतना सब बताने के बाद उन्होंने अचानक कहा कि ओह, लगता है मैंने ज्यादा ही बता दिया। मुझे अपने ऊपर नियंत्रण रखना चाहिए। हालांकि रूस की सरकार ने विक्तोर के इस दावे को खारिज किया है और कहा है कि इस रिपोर्ट को ‘गंभीरता से नहीं लिया जाना चाहिए’।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *